रविवार, 3 मार्च 2013

मुल्ला नसीरुद्दीन

मुल्ला रास्ते पर जा रहे थे तभी किसी ने पीछे से उन्हें एक चपत लगाईं मुल्ला उसे लेकर अदालत में गये. लेकिन जज उस आदमी का दोस्त निकला उसने उसे सज़ा तो सुनाई लेकिन क्या उसने सज़ा पाई? मुल्ला ने कैसे इसका प्रतिकार किया सुनिए कहानी मुल्ला नसीरुद्दीन में ....

http://www.youtube.com/watch?v=4i9wb_ibT-Q

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर कहानी सुनायी कविता जी,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया कहानी | मुल्ला मेरा फवेरेट पात्र है |


    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविताजी,

    आप के ब्लोग'चहल-पहल'मेंलिखी कहानियों को'U.Tube'के वीड़ियो में सुना। आप की छोटी-छोटी और प्यारी-प्यारी कहानियाँ सुनकर मज़ा आगया|

    अगर आप मेरी Self published book 'यह हैं मेरी कहानियाँ'पढ़ना चाहें तो आप को मैं लिन्क भेज रही हूँ--http://tinyurl.com/kahaniya

    इस पुस्तक में मैंने जानवरों के माध्यम से मनोरंज़क और शिक्षाप्रद बाल कथाओं को प्रस्तुत किया है। जिस के द्वारा कहानियों का मजा लेने के साथ-साथ बच्चे जीवन की सच्चाई को समझ कर क्या ठीक है और क्या गल्त है जान जायेगें?

    विन्नी

    उत्तर देंहटाएं
  4. वहा बहुत खूब बेहतरीन

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में

    तुम मुझ पर ऐतबार करो ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मजेदार कहानी...जज साहब इन्तजार में होंगे दो चांदी के सिक्के को :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    उत्तर देंहटाएं
  7. मजेदार ... मुल्ला नसरुद्दीन के किस्से बहुत मशहूर हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बचपन से मेरा पसंदीदा किरदार मुल्ला नसरुद्दीन | मजेदार प्रस्तुति

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपने ढंग का अनोखा ब्लॉग -बहुत बढियाँ !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥